ईरान पर लगे गए प्रतिबंधों की पृष्ठभूमि पर , भारत ने अमरिका से इंधन की खरीदारी बड़े पैमाने पर बढाई

नई दिल्ली – ईरान पर अमरिका ने लगाए प्रतिबंधों की पृष्ठभूमि पर भारत की चिंताओं को ध्यान में रखकर अमरिका ने भारत में कच्चे तेल की निर्यात बढाई है। अगस्त महीने में अमरिका से भारत में ९९ लाख बैरल्स से अधिक कच्चे तेल की आयात हो रही है। जुलाई महीने की तुलना में इसमें तीन गुना बढ़ोत्तरी हुई है। पिछले सात महीनों में भारत ने अमरिका से आयात किए कच्चे तेल से अधिक तेल केवल अगस्त महीने में आयात हो रहा है, यह बात अब स्पष्ट हुई है।

इंधन की खरीदारी

दो महीनों पहले ईरान से इन्धन तेल की आयात करने वाले देशों को अमरिका ने चेतावनी दी थी। ईरान से इंधन की खरीदारी रोकने के लिए भारत को नवम्बर तक का अवधि दिया था। नहीं तो भारत को भी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है, ऐसी अमरिका ने चेतावनी दी थी। भारत सिर्फ संयुक्त राष्ट्रसंघ के प्रतिबंधों का पालन करता है, ऐसा कहकर ईरान के साथ इंधन सहकार्य इसी तरह से जारी रहेगा, इस बात को भारत ने स्पष्ट किया था। लेकिन अपने सामरिक सहकारी देश भारत को ईरान पर लगाए गए प्रतिबंधों की चिंता को देखते हुए, अमरिका ने भारत के साथ इंधन सहकार्य अधिक व्यापक किया है।

पिछले तीन महीनों में अमरिका से भारत में इंधन तेल की निर्यात में बड़े पैमाने पर बढ़ोत्तरी हुई है। इस साल जनवरी से अप्रैल के दौरान भारत ने अमरिका से प्रतिदिन २९,००० बैरल्स इंधन तेल की आयात की है। लेकिन मई महीने में यह प्रमाण बढ़कर प्रतिदिन १ लाख बैरल्स किया गया है।

जून महीने में यह आंकड़े दोगुना से अधिक मात्रा में बढे है। जून में २ लाख ६२ हजार बैरल्स प्रतिदिन इतना इंधन तेल भारत ने अमरिका से आयात किया है। जुलाई महीने में प्रतिदिन १ लाख १९ हजार बैरल्स इंधन तेल भारत ने आयात किया था। अगस्त में भारत अब तक प्रतिदिन ३ लाख १९ हजार बैरल्स इंधन तेल अमरिका से आयात कर रहा है, ऐसा दावा ‘थोमसन रॉयटर्स ऑइल रिसर्च एंड फोरकास्ट’ अपनी रिपोर्ट में किया है।

पिछले सात महीनों में भारत ने ९६.५ लाख बैरल्स कच्चा तेल अमरिका से आयात किया है। लेकिन अगस्त इसी एक महीने में ही ९९.४ लाख बैरल्स इतना इंधन तेल भारत ने अमरिका से आयात कर रहा है। ऐसा दावा इस रिपोर्ट में किया गया है। ईरान पर लगाए प्रतिबंधों की पृष्ठभूमि पर अमरिका ने भारत में अपनी निर्यात बढाने का दावा किया जा रहा है।

भारत की निजी इंधन कंपनियां भी अमरिका से तेल आयात पर जोर दे रही हैं, इस वजह से भी भारत की तेल आयात बढ़ गई है। आने वाले समय में भी यह बढ़ोत्तरी दिखाई देने वाली है। प्रतिबंधों की वजह से ईरान की तरफ से होने वाली इंधन आयात कम हो रही है, इस वजह से हुए खालीपन को अमरिका भर रहा है। ऐसा दावा ‘फैक्ट्स ग्लोबल एनर्जी’ इस संस्था के विशेलषकों ने किया है।

भारत में अमरिका की तरफ से की जाने वाली इंधन तेल की निर्यात बढ़ रही है, लेकिन अमरिका से चीन में होने वाली इंधन निर्यात स्थिर है। अमरिका और चीन के बीच भडके व्यापार युद्ध की वजह से चीन ने अमरिका की तरफ से की जाने वाली इंधन आयात में कटौती हो सकती है, अमरिका यूरोपीय देश और भारत के साथ दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों में इंधन निर्यात और बढ़ाएगा, ऐसा दावा ‘एस एंड पी ग्लोबल प्लेट्स एनालिटिक्स’ के विश्लेषकों ने किया है।

पिछले वर्ष अक्टूबर महीने से अमरिका ने भारत को कच्चे तेल की आपूर्ति शुरू की थी। कच्चे तेल के साथ साथ अमरिका ने सीएनजीसी की आपूर्ति भी भारत में शुरू की है। भारत और अमरिका के बीच इस बढ़ते सहकार्य की वजह से इंधन की जरुरत पूरी करने के लिए भारत की खाड़ी देशों पर निर्भरता कम होती दिखाई दे रही है।