भारत इरान से ईंधन खरीदारी करेगा – पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

नई दिल्ली – आनेवाले कई हफ्तों में ईरान से ईंधन खरीदारी करनेवाले देशों पर अमरिका कठोर प्रतिबंध जारी करने की तैयारी कर रहा है। ईरान से बड़े तादाद में ईंधन की खरीदारी करने वाले भारत को भी इन प्रतिबंधों का झटका लग सकता है।ऐसा होते हुए भी भारत ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रोकेगा, ऐसी घोषणा पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने की है।

४ नवंबर से अमरिका के ईरान पर प्रतिबंध जारी किए जाएंगे। इससे पहले ईरान से ईंधन की खरीदारी करने वाले सभी देशों ने अपनी ईंधन आयात शून्यपर लानी होगी, ऐसी चेतावनी अमरिका ने दी थी। भारत को भी इस बारे मेंअमरिका के विदेश मंत्री ने सूचित किया था। पर भारत ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रोकेगा, ऐसा स्पष्ट करके पेट्रोलियम मंत्री ने इस बारे में भारत की भूमिका स्पष्ट की है।अमरिका के प्रतिबंधों की वजह से भारत को ईरान केईंधन के पैसे चुकते करना कठिन हो सकता है। यह ध्यान में लेकर पैसे चुकते करने के अलग-अलग विकल्पों का विचार किया जा रहा है, ऐसा भी पेट्रोलियम मंत्री ने स्पष्ट किया है।

डॉलर का उपयोग ना करते हुए रुपयों में ईरान के ईंधन के पैसे चुकते करने का विकल्प सामने होने के संकेत पेट्रोलियम मंत्री प्रधान ने दिया है। दौरान अक्टूबर महीने में भारत ने ईरान से १ करोड़ बैरल्स इतने ईंधन तेल की मांग की थी। नवंबर महीने में इस मांग में गिरावट होगी ऐसी चर्चा शुरू हुई है। कई अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने भारत ईरान से नवंबर महीने में ६० लाख बैरल इतनी ईंधन की खरीदारी करेगा ऐसा कहा था। ईरान से किए जानेवाले ईंधन के खरीदारी में कटौती करके भारत अमरिका का सम्मान करने का प्रयत्न करेगा, पर इसके आगे जाकर भारत ईरान से खरीदारी पूर्ण रूप से रोकने के लिए तैयार नहीं ऐसा वृत्तसंस्था का कहना है।

ईंधन के बढ़ते दामों के बारे में चिंता व्यक्त करते हुए ईंधन उत्पादक देशों की संस्था ओपेक से अपना वचन पाले न जाने का आरोप धर्मेंद्र प्रधान ने किया है। जून महीने में ओपेक प्रतिदिन १० लाख बैरल इतने इंधन उत्पादन बढ़ाने की बात मंजूर की थी।ओपेक के प्रमुख सदस्य देश होनेवाले सऊदी अरेबिया के ईंधन मंत्रि को हमने उसकी याद भी दिलाई थी, ऐसी जानकारी भारत के पेट्रोलियम मंत्री ने दी है।

रशिया से एस-४००हवाई सुरक्षा यंत्रणा की खरीदारी पर अमरिका ने जताया आक्षेप ठुकराकर भारत ने इस यंत्रणा के खरीदारी पर हालही में हस्ताक्षर किए थे उसके बाद ईरान से ईंधन की खरीदारी नहीं रुकेगी ऐसा भारत अमरिका को बता रहा है उसके बाद भी अमरिका भारत पर प्रतिबंध जारी करेगा या नहीं करेगा, इसकी हमें कल्पना ना होने की बात पेट्रोलियम मंत्री ने कही है