तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन सीरिया में मुस्लिम ब्रदरहूड को सत्ता में लाने की तैयारी में – सीरियन राष्ट्राध्यक्ष के सलाहकार ने किया आरोप

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तरदमास्कस – तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष रेसेप एर्दोगन ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’को सीरिया में सत्ता पर लाने की कोशिश कर रहे है, ऐसा आरोप सीरियन राष्ट्राध्यक्ष के सलाहकार बोथैना शाबन इन्होंने किया है| सीरिया में युद्ध शुरू होने से पहले से ही एर्दोगन इनकी यह कोशिश शुरू है और सीरिया के अलावा अन्य देशों में भी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष यही गतिविधियां कर रहे है, ऐसा चौकानेवाला आरोप शाबन इन्होंने किया है| कुछ दिनों पहले ही सीरिया के राष्ट्राध्यक्ष बशर अल अस्साद इन्होंने एर्दोगन यह अमरिका के गुलाम है और उनके ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ इस खाडी क्षेत्र की चरमपंथी संगठन से सांठगांठ होने का आरोप किया था|

‘सीरिया में युद्ध शुरू होने से पहले से और अभी भी तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष एर्दोगन मुस्लिम ब्रदरहूड को सीरिया में मंजूरी मिले और ब्रदरहूड सीरिया की सत्तारूढ हुकूमत का हिस्सा हो इस लिए कोशिश कर रहे है| सीरिया के कथित विपक्षी गठबंधन तुर्की राष्ट्राध्यक्षों के नियंत्रण में है और उनके माध्यम से एर्दोगन षडयंत्र कर रहे है| मुस्लिम ब्रदरहूड को सीरिया की सत्तारूढ हुकूमत का हिस्सा बनाने के लिए एर्दोगन इनकी कोशिश शुरू है’, ऐसे आक्रामक शब्दों में सलाहकार बोथैना शाबन इन्होंने तुर्की राष्ट्राध्यक्ष पर आरोप किए है|

सीरिया के राष्ट्राध्यक्ष बशर अल अस्साद इन्होंने कुछ दिनों पहले एक भाषण में तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष पर आलोचना की थी| ‘एर्दोगन यह अमरिका के गुलाम है| तुर्की के राष्ट्राध्यक्ष ने मुस्लिम ब्रदरहूड के साथ सांठगांठ की है’, यह दावा राष्ट्राध्यक्ष अस्साद इन्होंने किया था| पिछले वर्ष एक ग्रीक समाचार पत्र को दी हुई मुलाकात में भी अस्साद इन्होंने एर्दोगन इनके ब्रदरहूड के साथ संबंध होने का आरोप किया था| ‘एर्दोगन यह मुस्लिम ब्रदरहूड के साथ जुडे है| संभव है वह ब्रदरहूड के सदस्य नही रहेंगे, लेकिन उनका झुकाव स्पष्ट तौर पर ब्रदरहूड की विचारधारा की तरफ है’, ऐसा अस्साद इन्होंने कहा था|

तुर्की ने उत्तरी सीरिया के ‘आफ्रिन’ हिस्से पर प्राप्त किया हुआ कब्जा और अन्य हिस्सों में की कार्रवाई की पृष्ठभूमि पर अस्साद इन्होंने एर्दोगन इन्हें लक्ष्य किया था|

वर्ष १९२८ में खाडी क्षेत्र में ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ इस चरमपंथी संगठन का गठन हुआ था| यह संगठन आज भी इजिप्ट के साथ खाडी एवं आग्नेय एशियाई देशों पर अपना प्रभाव बनाकर है, ऐसा कहा जा रहा है| तुर्की, कतार और इजिप्ट इन देशों में ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ बडी मात्रा में सक्रीय है|

लेकिन, इजिप्ट ने पिछले कुछ वर्षों में ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ के विरोध में आक्रामक कदम उठाए है| इजिप्ट में ब्रदरहूड को आतंकी संगठन के तौर पर घोषित किया है और राष्ट्राध्यक्ष अब्देल फताह अल सिसी इन्होंने पिछले दो वर्षों में ब्रदरहूड के नेता, सदस्य और ठिकानों के विरोध में जोरदार मुहीम शुरू कर रखी है| कुछ दिनों पहले मुस्लिम ब्रदरहूड के नौ आतंकियों को मौत की सजा दी गई| वर्ष २०१५ में इजिप्ट के न्यायाधिश हिशम बराकत इनकी बमस्फोट में हत्या करने का आरोप ब्रदरहूड के आतंकियों पर रखा गया था|

खाडी देशों में सत्ता में रहनेवाली हुकूमत ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ का खतरा पहचानकर कार्रवाई कर रही है, तभी यूरोप में प्रमुख देश इस चरमपंथी संगठन को शांति मुहीम का दर्जा दे रहे है, यह बात झटका देेनेवाली है| जर्मनी के अंतर्गत सुरक्षा मंत्रालय ने संसद में एक सवाल को दिए जवाब में ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ यह शांति मुहीम और सबसे पुरानी सियासी एवं सामाजिक संगठन होने की सराहना की है|

पिछले महीने में जर्मनी में ‘बव्हेरिया’ प्रांत की सरकार ने ब्रदरहूड एवं तुर्की संगठनों में बने संबंधों की जांच करने के संकेत दिए थे| वही, अमरिका, यूरोप के साथ दुनिया में सिर्फ चरमपंथी हुकूमत ‘खिलाफत’ स्थापित करने के लिए ‘मुस्लिम ब्रदरहूड’ इस आतंकी संगठन ने जोरदार कोशिश शुरू की है, इस संबंधी खुफिया जानकारी ‘रैमी डैबास’ इस विश्‍लेषक ने उजागर की थी|