भारत-अमरिका के बीच ‘स्ट्रॅटेजिक मिसाइल डिफेन्स’ पर चर्चा – ‘पेंटॅगॉन’ की जानकारी

वॉशिंगटन – दक्षिण एशिया के कई देश प्रगत बैलिस्टिक एवं क्रूझ मिसाइल विकसित कर रहे है| इस पृष्ठभुमि पर अमरिका ने भारत के साथ मिसाइल विरोधी यंत्रणा के संबंधी चर्चा शुरू की है| अमरिका ने रक्षा क्षेत्र में शीर्ष साझीदार देश का स्थान भारत को दिया है| इंडो-पैसिफिक क्षेत्र की नीति का विचार करे तो इस यंत्रणा के संबंधी यह चर्चा होना स्वाभाविक है, इन शब्दों में अमरिका के रक्षा विभाग ने भारत के साथ रक्षा सहयोग करने के संकेत दिए|

अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प इन्होंने गुरूवार के दिन ‘पेंटॅगॉन’ को भेंट देकर अमरिका की ‘मिसाइल डिफेन्स रिव्ह्यू रिपोर्ट’ का ऐलान किया| इस रपट में अमरिका आने वाले समय में विकसित करनेवाली मिसाइल विरोधी यंत्रणा संबंधी योजनाओं के संकेत दिए गए है| इसमें अंतरिक्ष में ‘मिसाइल डिफेन्स सिस्टिम्स’ का निर्माण करने पर भी जोर दिया गया है और साथ ही सहयोगी देशों में प्रगत यंत्रणा तैनात करने का भी जिक्र किया गया है|

अमरिकी रक्षा विभाग ने वर्ष २०१० के पहली बार यह रपट रखी है| ऐसे में इस रपट में प्रगत मिसाइल विरोधी यंत्रणाओं की जानकारी देते समय भारत का किया गया जिक्र काफी अहम साबित होता है| राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प इन्होंने पिछले दो वर्षों में अमरिका और भारत के बीच रक्षा सहयोग अधिक से अधिक पुख्ता करने के लिए अहम निर्णय किए है और इसमें प्रगत लडाकू विमान, मिसाइल और प्रगत रक्षा तकनीक के संबंधी मुद्दे शामिल है|