भारत और ‘यूएई’ के बीच ‘करन्सी स्वॅप’ समझौता

अबू धाबी: भारत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में अत्यंत महत्वपूर्ण करार हुए है| जिसमें एक दूसरों के चलन में व्यापार करनेवाले ‘करंसी स्वैप’ करार का समावेश है| साथ ही अफ्रीकन देशों के विकास के लिए भारत-यूएई संयुक्त रूप से प्रयत्न करने वाले हैं| भारत के विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इनके यूएई दौरे में इस बारे में समझौता हुआ|

सोमवार को विदेश मंत्री स्वराज यूएई के दौरे पर पहुंची| उन्होंने युएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन झाएद अल नह्यान इनकी भेंट लेकर द्विपक्षीय चर्चा की है| इस चर्चा के बाद दोनों देशों में करेंसी स्वैप समझौता हुआ| इस करार की वजह से दोनों देशों के बीच हो रहे व्यापार में एक दूसरों के चलन का उपयोग संभव होगा| सन २०१७-१८ इस वित्तीय वर्ष में भारत और यूएई में द्विपक्षीय व्यापार लगभग ५३ अरब डॉलर के आगे गया था| यह व्यापार २०२० वर्ष तक १०० अरब डॉलर तक बढाने की महत्वाकांक्षा भारत एवं युएई ने व्यक्त की है| तथा यूएई से भारत में अब तक ४० अरब डॉलर्स का निवेश किया गया है|

भारत, यूएई, बीच, करन्सी स्वॅप, समझौताइस वर्ष के जून महीने में भारत भेंट के दौरान यूएई के विदेश मंत्री ने भारत में लगभग ७५ अरब डॉलर्स निवेश करने की घोषणा की थी| ‘यूएई’ भारत को ईंधन प्रदाय करनेवाला छठवें क्रमांक का देश है| तथा यूएई में लगभग ३५ लाख भारतीय कर्मचारी कार्यरत है| जिसकी वजह से दोनों देशों में व्यापारी तथा आर्थिक सहयोग को सक्षम आधार मिला है| ऐसी परिस्थिति में भारत एवं युएई ने किया ‘करेंसी स्वैप’ करार अत्यंत महत्वपूर्ण है|

इसकी वजह से भारत की विदेशी जमापूंजी अधिक स्थिर रह सकती है| साथ ही अफ्रीकन देशों के विकास के लिए भारत एवं यूएई ने संयुक्त रूप से प्रयत्न करने की तैयारी की है और इस संदर्भ में दोनों देशों में करार भी हुआ है| चीन जैसा विस्तारवादी मानसिकता का देश अफ्रीका में गरीब देशों को अपने ‘शिकारी वित्त नीति’ का बली बनाता दिखाई दे रहा है| ऐसी परिस्थिति में अफ्रीका खंड में अपना प्रभाव कायम रखने के लिए भारत प्रयत्न करने पर विवश हुआ है और इसके लिए भारत यूएई जैसे संपन्न देश की सहायता लेने की बात इस निमित्त से सामने आ रही है|

दौरान विदेश मंत्री स्वराज एवं यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्लाह बिन झाएद अल नह्यान के बीच भारत एवं यूएई में व्यापार, ऊर्जा, सुरक्षा, निवेश तथा अंतरिक्ष एवं रक्षा क्षेत्र के सहयोग के बारे में गहरी चर्चा होने की जानकारी भारत के विदेश मंत्रालय ने दी है|

साथ ही महात्मा गांधी इनकी १५०वीं जयंती और यूएई के संस्थापक शेख जायेद इनके १००वी जयंती के निमित्त से ‘गांधी-झाएद डिजिटल म्यूजियम’ का उद्घाटन दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के हाथों किया गया है| २ दिन पहले मुंबई में यूएई तक अंडर वॉटर ट्रेन प्रकल्प निर्माण करने के बारे में खबरें प्रसिद्ध हुई थी| इस प्रकल्प से लगभग २००० किलोमीटर की यात्रा केवल २ घंटों में हो सकती है, ऐसा कहा जा रहा है| इस अत्यंत महत्वाकांक्षी प्रकल्प के विषय में विदेश मंत्री स्वराज एवं विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन झाएद अल नह्यान में चर्चा हुई है| लेकिन, इस बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं हो पाई है|