अमरिका ने ‘आईएस’ की चंगुल से बचाए हुए देशों से ‘थैंक यू’ नहीं आया – राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प का सूचक इशारा

तृतीय महायुद्ध, परमाणु सज्ज, रशिया, ब्रिटन, प्रत्युत्तर

वॉशिंग्टन: अमरिका की मिसाइलें सीरिया पर गिरने वाले हैं। अमरिका को चुनौती देने वाला रशिया इसके लिए तैयार रहे, ऐसा इशारा अमरिका के राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रम्प ने बुधवार को दिया था। उसके बाद कुछ ही घंटों में सीरिया पर अमरिकी मिसाइलों का भीषण हमला शुरू होगा, ऐसा लग रहा था। लेकिन मैने जल्द ही सीरिया पर हमला होगा, ऐसा कहा था, इस हमले का समय नहीं बताया था, ऐसा खुलासा ट्रम्प ने ट्विटर पर किया है। उसी समय मेरे नेतृत्व में अमरिका ने ‘आईएस’ की चंगुल से इस क्षेत्र को बचाया है, ऐसा कहकर इसके लिए अमरिका को किसी ने भी ‘थैंक यू’ नहीं कहा है, इस बात की तरफ राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प ने ध्यान आकर्षित किया है।

अमरिका का विमानवाहक जंगी जहाज और विनाशिका सीरिया की दिशा में रवाना होने की खबरें आईं थी। इस वजह से सीरिया पर मिसाइलों को गिराने का सिलसिला शुरू हो जाएगा, ऐसा लग रहा था, ऐसे में राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प का उलझन में डालने वाला ट्विट प्रसिद्ध हुआ है। मैने सीरिया पर जल्द ही हमला करेंगे ऐसा कहा था। इस हमले की अवधि और समय नहीं घोषित किया था। ऐसा ट्रम्प ने इस ट्विट में स्पष्ट किया है। इसी ट्विट में उन्होंने अपने नेतृत्व में अमरिकन प्रशासन ने महान कार्य करके ‘आईएस’ के खतरे से इस क्षेत्र को बचाया है। इसके लिए किसी ने भी अमरिका को ‘थैंक यू’ नहीं कहा है, ट्रम्प के यह उद्गार सूचक है, ऐसा दिखाई दे रहा है। इस द्वारा ट्रम्प ने खाड़ी और यूरोपीय देशों को उचित इशारा देने का दावा जानकार कर रहे हैं।

विश्वभर में ‘आईएस’ अथवा ‘आईएसआईएस’ अथवा ‘आईसिस’ और ‘दाईश’ नाम से पहचाने जाने वाले खतरनाक आतंकवादी संगठन ने इराक और सीरिया के साथ साथ दुनिया भर में खलबली मचाई थी। इस संगठन ने इराक और सीरिया के कुछ शहर और प्रान्तों पर कब्ज़ा करके, भयानक नरसंहार किया था। इस आतंकवादी संगठन की वजह से ही इराक और सीरिया से शरणार्थियों का समूह यूरोपीय देशों में आया था। इराक और सीरिया के बाद खाड़ी के पडौसी देश अपनी ‘खिलाफत’ से जुड़ जाएंगे, ऐसी घोषणा ‘आईएस’ ने की थी। इस वजह से खाड़ी के देशों पर दबाव बड़े पैमाने पर बढ़ गया था।

ट्रम्प ने हाथों में राष्ट्राध्यक्ष पद के सूत्र हाथों में लेने के बाद ‘आईएस’ के खिलाफ कठोर भूमिका अपनाई थी। इसके बाद ‘आईएस’ पीछे हट गया और इस आतंकवादी संगठन का खाड़ी और यूरोपीय देशों को संभावित खतरा बड़े पैमाने पर कम हो गया था। इसे ध्यान में रखकर अमरिका को किसी ने भी ‘थैंक्स’ नहीं कहा, इसकी याद ट्रम्प दिला रहे हैं। अमरिका ने की हुई इस मदद का एहसास रखकर खाड़ी और यूरोपीय देशों ने सीरिया पर कार्रवाई के लिए अमरिका की मदद करनी चाहिए थी। लेकिन इन देशों की तरफ से अमरिका को अपेक्षित मदद नहीं मिल रही है, ऐसा राष्ट्राध्यक्ष ट्रम्प संदेश दे रहे हैं। ‘आईएस’ और ईरान के खिलाफ अमरिका को खाड़ी और यूरोपीय देशों ने मदद नहीं की, तो यह कृतघ्नता साबित होती है। इसके बाद अमरिका अगली कार्रवाई किसी का भी हित और सुरक्षा ध्यान में रखे बिना ही करेगा, ऐसा कठोर इशारा भी इस संदेश के माध्यम से दिया जा रहा है।

ब्रिटीश प्रधानमंत्री के सामने देशांतर्गत विरोध की चुनौती
‘साऊथ चायना सी’ मुद्दे पर सहयोग प्राप्त करने चिनी विदेशमंत्री भारत दौरे पर आयेंगे
सीरिया, इराक संघर्ष पर अमरीका, रशिया और तुर्की के अधिकारियों में चर्चा
‘ईरान रशिया का उत्तम सहयोगी देश’ : रशियन राष्ट्राध्यक्ष व्लादिमिर पुतिन
अमरीका के महंगे ईंधन के लिए यूरोप दूसरा विकल्प खोजे- जर्मन ईंधन प्रमुख की सलाह
दक्षिण पूर्व एशिया के संघर्ष में हिस्सा लें - फिलिपिन्स के ‘आयएस’ का आवाहन
ईरान की लष्करी गतिविधियों के लिए लेबेनॉन को कीमत चुकानी पड़ेगी- इस्रायली रक्षामंत्री का इशारा
मालदीव में राष्ट्राध्यक्ष यामीन के खिलाफ प्रदर्शन तीव्र       

Leave a Reply

Your email address will not be published.