चीन के लडाकू विमानों की दक्षिण कोरिया की सीमा में घुसपैठ – दक्षिण कोरिया से कडी आलोचना

Third World Warसेऊल – ‘ईस्ट और साऊथ चाइना सी’ पर हक जताकर जापान और आग्नेय एशियाई देशों के साथ बने संबंधों में तनाव निर्माण कर रहे चीन ने अब दक्षिण कोरिया को भी उकसाया है| चीन के लडाकू और लष्करी गश्ती विमानों ने दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्र में घुसपैठ करने की तादाद दुगनी की है| अमरिका, जापान और दक्षिण कोरिया के बीच बढते सहयोग की पृष्ठभुमि पर दक्षिण कोरिया की क्षेत्र में विमानों को भेज कर चीन अपने पडोसी देश को डरा रहा है, यह दावा किया जा रहा है| इस दौरान, चीन की इस घुसपैठ पर दक्षिण कोरिया ने कडी आलोचना की है और चीन के दूतावास को समन्स भेजा है|

चीन, जापान और दक्षिण कोरिया के बीच ‘एअर डिफेन्स आयडेन्टिफिकेशन झोन’ के मुद्दे पर विवाद बना है| तय हवाई सीमा ना होने के कारण यह विवाद बातचीत के द्वारा सुलझाने का तिनों भी देशों ने तय किया है| तब तक कोई भी देश दुसरे देश की फिलहाल की तय हवाई सीमा में घुसपैठ करके प्रवासी विमानों की सुरक्षा के लिए खतरा ना बनाए, यह इन देशों ने तय किया था| इसके बावजूद चीन के लष्करी विमानों ने जापान और दक्षिण कोरिया की हवाई क्षेत्र में घुसपैठ शुरू है, ऐसी आलोचना दोनों देश कर रहे है|

बातचीत के माध्यम से हवाई सीमा का विवाद सुलझाने का तय होने के बावजूद २०१६ में चीन के लडाकू विमानों ने दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्र में ६० बार घुसपैठ की थी| वही, २०१७ में चीन की विमानों की घुसपैठ की मात्रा बढकर ७० तक पहुंची थी| लेकिन इस वर्ष चीन के लडाकू विमानों की घुसपैठ की मात्रा लगभग दुगनी हुई है, ऐसी शिकायत दक्षिण कोरिया के वायु सेना ने की है| इस सितंबर महीने तक चीन के विमानों ने ११० से अधिक बार घुसपैठ की है, यह जानकारी दर्ज हुई है|

इस बार चीन के लडाकू विमानों के साथ ही लष्करी गश्ती के और इलेक्ट्रॉनिक युद्ध में उपयोगी विमानों ने भी घुसपैठ करने से दक्षिण कोरिया की वायु सेना ने चिंता व्यक्त की है| पिछले सोमवार के दिन ही चीन का ‘शांक्सी वाय-९’ यह इलेक्ट्रॉनिक युद्ध में इस्तेमाल होने वाला विमान दक्षिण कोरिया की हवाई क्षेत्र में दूर तक घुसपैठ करके मंडराया था| ‘ईस्ट चाइना सी’ में ‘सोकोट्रा रॉक’ इस क्षेत्र से दक्षिण कोरिया की हवाई क्षेत्र में घुसपैठ करने के बाद चीन का यह विमान लंबे ४० मिनिटों तक मंडरा रहा था| इसके बाद इस विमान ने जापान के हवाई क्षेत्र में घुसपैठ की थी, यह जानकारी दक्षिण कोरिया की वायु सेना ने दी है|

चीन के विमानों की इस घुसपैठ की आलोचना करके दक्षिण कोरिया ने सेऊल में स्थित चीन के दूतावास में नियुक्त वरिष्ठ लष्करी अधिकारियों को समन्य भेजा है| यह गंभीर घटना है और चीन इस संदर्भ में खुलासा करे, यह मांग दक्षिण कोरिया ने रखी है| साथ ही चीन के ऐसी घुसपैठ दक्षिण कोरिया आगे से नजरअंदाज नही करेगा, यह चेतावनी भी एक अधिकारी ने दी| कुछ दिनों पहले जापान ने भी चीन की विमानों की हो रही घुसपैठ पर आलोचना की थी|

इस दौरान, पिछले कुछ महीनों में अमरिका और दक्षिण कोरिया का लष्करी सहयोग बढ रहा है| उत्तर कोरिया के साथ हुई बातचीत विफल हुई तो रक्षा की दृष्टी से तैयार रहने के लिए अमरिका ने कुछ हफ्तों पहले दक्षिण कोरिया में युद्धाभ्यास का आयोजन किया था| अमरिका और दक्षिण कोरिया में बढ रहे लष्करी सहयोग की पृष्ठभुमि पर लडाकू विमानों की घुसपैठ कराके चीन दक्षिण कोरिया को धमका रहा है, यह दावा चिनी माध्यम कर रहे है|