परमहंस-१३८

परमहंस-१३८

काशीपुरस्थित घर में स्थलांतरित होने के बाद भी रामकृष्णजी की बीमारी बढ़ती ही चली गयी। अब उनका शरीर यानी महज़ अस्थिपंजर शेष बचा था। लेकिन उनकी मानसिक स्थिति तो अधिक से अधिक आनंदित होती चली जा रही थी, मानो जैसे बुझने से पहले दीये की ज्योति बड़ी हो जाती है, वैसा ही कुछ हुआ था। […]

Read More »

परमहंस-१३७

परमहंस-१३७

इस नये काशीपूरस्थित विशाल फार्महाऊस में अब रामकृष्णजी और उनके शिष्यगण धीरे धीरे नये माहौल से परिचित हो रहे थे। यहाँ पहली मंज़िल पर होनेवाले बड़े हॉल में रामकृष्णजी के निवास का प्रबंध किया गया था और वे वहीं पर, आये हुए भक्तों से मिलते थे। उससे सटे एक छोटे कमरे में, उस उस दिन […]

Read More »

परमहंस-१३६

परमहंस-१३६

बीमारी पर ईलाज के चलते रामकृष्णजी का जो वास्तव्य श्यामापुकुर में चल रहा था, उससे शिष्यगणों के दिलों में संमिश्र भावनाएँ उमड़ रही थीं। यहाँ पर, पहले कभी नहीं मिला था इतना रामकृष्णजी का सान्निध्य उन्हें प्राप्त हो रहा था। दर्शन के लिए आये भक्तों को किये जानेवाले मार्गदर्शन के माध्यम से, रामकृष्णजी के उपदेशामृत […]

Read More »

परमहंस-१३५

परमहंस-१३५

रामकृष्णजी का वास्तव्य अब कोलकाता की भरी बस्ती में होने के कारण, आनेवाले भक्तों को दक्षिणेश्‍वर की तुलना में यहीं पर अधिक सुविधाजनक साबित हो रहा था और यहाँ पर भक्तों की अधिक ही भीड़ इकट्ठा होने लगी थी। दरअसल उनके पुराने निष्ठावान् भक्तों में से कइयों का प्रवास संन्यास धारण करने की दिशा में […]

Read More »

परमहंस-१३४

परमहंस-१३४

ऐसे कई हफ़्तें बीत गये, लेकिन रामकृष्णजी की बीमारी कम हो ही नहीं रही थी। लेकिन इस व्याधि से जर्जर हो चुके होने के बावजूद भी रामकृष्णजी का मन आनन्दमय ही था। मुख्य बात, अब वे अधिक ही तेजःपुंज दिखायी देने लगे थे। उनकी कांति अधिक से अधिक प्रकाशमान् होती चली जा रही है, ऐसा […]

Read More »

परमहंस-१३३

परमहंस-१३३

इसी बीच दुर्गापूजा उत्सव नज़दीक आया। वैसे तो यह उत्सव यानी दक्षिणेश्‍वर में रामकृष्णजी के शिष्यों के लिए मंगल पर्व ही होता था। क्योंकि यह देवीमाता का उत्सव होने के कारण रामकृष्णजी भी उसमें दिल से सम्मिलित होते थे। इस उत्सव के उपलक्ष्य में जो सत्संग होता था, उसके दौरान रामकृष्ण भावसमाधि को प्राप्त होने […]

Read More »

परमहंस-१३२

परमहंस-१३२

श्यामापुकूर में अब रामकृष्णजी के रहने का तथा सेवाशुश्रुषा का प्रबंध अब सुचारू रूप से हो गया था और चूँकि शारदादेवी भी वहाँ रहने के लिए आयी थीं, परहेज़ के खाने की समस्या भी हल हो गयी थी। लेकिन रामकृष्णजी की बीमारी सुधरने का नाम ही नहीं ले रही थी। पैसों का भी सवाल था। […]

Read More »

परमहंस-१३१

परमहंस-१३१

कोलकाता के श्यामापुकुर स्ट्रीट स्थित मक़ान में रामकृष्णजी निवास के लिए आये थे। नीचली मंज़िल पर एक बड़ा दीवानखाना और एक मध्यम आकार का कमरा और ऊपरि मंज़िल पर दो एकदम छोटे कमरें, ऐसा इस जगह का स्वरूप था। नीचली मंज़िल पर के उस मध्यम आकार के कमरे को रामकृष्णजी निवासस्थान के रूप में इस्तेमाल […]

Read More »

परमहंस-१३०

परमहंस-१३०

रामकृष्णजी के उस स्त्रीभक्त द्वारा दिये गए आमंत्रण के अनुसार, उनके कुछ शिष्यगण उसके पास जब भोजन के लिए गये थे, तब ‘वह’ सँदेसा आया था – ‘रामकृष्णजी के गले से से रक्तस्राव शुरू हुआ होने के कारण वे वहाँ नहीं आ सकते।’ उपस्थितों के दिल की मानो धडकन ही रुक गयी और भोजन को […]

Read More »

परमहंस-१२९

परमहंस-१२९

पानिहाटी से आये हुए अब एक महीना बीत चुका था, लेकिन रामकृष्णजी के गले की बीमारी कम होने का नाम ही नहीं ले रही ती; उलटी दिनबदिन उनकी परेशानी बढ़ती ही चली जा रही थी। अब तो उन्हें खाना निगलने में भी दिक्कत होने लगी। उनपर ईलाज करनेवाले डॉक्टरों ने – ‘क्लर्जीमन्स सोअर थ्रोट’ ऐसा […]

Read More »
1 2 3 14