१०. ज्यूधर्मीय इजिप्त में सैंकड़ों वर्ष ग़ुलामी में; मोझेस का जन्म

१०. ज्यूधर्मीय इजिप्त में सैंकड़ों वर्ष ग़ुलामी में; मोझेस का जन्म

इजिप्त में जेकब के साथ स्थानांतरित होते समय संख्या में केवल ७० (‘सेवन्टी सोल्स’) होनेवाले इन ज्यूधर्मियों की संख्या अगली कुछ पीढ़ियों में तेज़ी से बढ़ते हुए हज़ारों-लाखों की तादाद में गयी थी। ये लोग हालाँकि अब इजिप्शियन समाजजीवन में घुलमिल गये थे, मग़र फिर भी अपना धर्म, अपने आद्य पूर्वज अब्राहम को हुआ ईश्‍वरी […]

Read More »

०९. जेकब का इजिप्त में आगमन तथा मृत्यु; जोसेफ़ की मृत्यु

०९. जेकब का इजिप्त में आगमन तथा मृत्यु; जोसेफ़ की मृत्यु

अपने भाइयों को अपने पैर पकड़कर गिड़गिड़ाते हुए देखकर जोसेफ़ गद्गद हो उठा, लेकिन उसने अपना कड़ा रूख़ क़ायम रखते हुए अपने भाइयों को कारागृह भेज दिया। लेकिन कारावास में अपने भाइयों का संभाषण गुप्त रूप से सुनते हुए उसे यह एहसास हुआ कि अपने भाई अब बदल चुके हैं। ख़ासकर, ‘हमपर लगाया गया यह […]

Read More »

०८. जोसेफ़ की इजिप्त के कारागृह से रिहाई; राजा के सपनों का अर्थ बताया

०८. जोसेफ़ की इजिप्त के कारागृह से रिहाई; राजा के सपनों का अर्थ बताया

इस प्रकार इजिप्त में बतौर ग़ुलाम बेचे गये जोसेफ़ की रवानगी आख़िरकार कारागृह में हुई। लेकिन यहाँ पर भी उसका ईश्‍वर उसकी रक्षा कर ही रहा था। यहाँ कारागृह में भी उसे अधिक दिक्कतें सहनी न पड़ते हुए, अल्प-अवधि में ही उसके स्वभाव से तथा बुद्धिमत्ता से प्रभावित होकर कारागृह के अधिकारी ने उसकी नियुक्ति […]

Read More »

०३. ईश्‍वर का अब्राहम के साथ ‘क़रारनामा’ (द कॉवेनन्ट)

०३. ईश्‍वर का अब्राहम के साथ ‘क़रारनामा’ (द कॉवेनन्ट)

ईश्‍वर के आदेश के अनुसार ऊर प्रांत से कॅनान प्रांत में आकर बसे अब्राहम ने अब अपने परिजनों एवं समर्थकों के साथ कॅनान प्रांत में अपनी जड़ें फैलाना शुरू किया था। सबकुछ शून्य में से ही शुरू करना पड़ने के कारण जनजीवन में दैनंदिन व्यवहार में ज़रूरत पड़नेवाले विभिन्न व्यवसायिकों के काम लोगों ने सिख […]

Read More »

०२. ईश्‍वर का ‘बुलावा’

०२. ईश्‍वर का ‘बुलावा’

गत कुछ सालों से इस्रायल का नाम आन्तर्राष्ट्रीय मंच पर कई कारणों से चर्चा में है। इस्रायल की नीतियाँ, उनके अनुसार इस्रायल द्वारा किये जानेवाले क्रियाकलाप इनकी कई बार आलोचना की जाती है। लेकिन इस्रायल की नीति को दरअसल ‘एककलमी’ (सिंगल-पॉईंट) ही कहा जा सकता है। ‘हमारे आद्य पूर्वज अब्राहम को ईश्‍वर ने अभिवचन देकर […]

Read More »

०१. इस्रायल : एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन सफल!

०१. इस्रायल : एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन सफल!

‘‘इस्रायल यह ऐसी भूमि है, जिसमें प्राकृतिक संसाधनों की कमी ही है। लेकिन इसलिए, हमारे पास जो नहीं है उसका दुख न करते हुए, हम इस्रायली लोगों ने, हमारे पास जो था यानी हमारे राष्ट्रभक्तिप्रेरित मन और लगन – उन्हीं को राष्ट्रकारण के लिए उपयोग में लाने का निश्‍चय किया! हमारे पास होनेवाले इन्हीं प्राकृतिक […]

Read More »

इस्रायल : एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन सफल! – प्रस्तावना

इस्रायल : एक प्रवास – प्रदीर्घ, लेकिन सफल! – प्रस्तावना

इस्रायल यानी एक छोटे-से समुदाय ने सँभालकर रखी हुई दुर्दम्य इच्छाशक्ति का ऐतिहासिक, भौगोलिक और राजनीतिक आविष्कार! हज़ारों वर्षों की सांस्कृतिक धरोहर प्राप्त इस देश ने मुश्किल से मुश्किल चुनौतियों का मुक़ाबला करके अपना राष्ट्र-अभिमान और धर्म-अभिमान धधकता रखा और अपने भूभाग को भी अथक संघर्ष करके पुनः प्राप्त किया। यह इस्रायली समाज अपनी मातृभूमि […]

Read More »

रशिया द्वारा आंतरखंडीय क्षेपणास्त्र के साथ ‘हायपरसॉनिक’ यंत्रणा का सफल परीक्षण

रशिया द्वारा आंतरखंडीय क्षेपणास्त्र के साथ ‘हायपरसॉनिक’ यंत्रणा का सफल परीक्षण

रशिया ने ध्वनि के ५ से १० गुना रफ़्तार रहनेवाली ‘हायपसॉनिक’ यंत्रणा के साथ ही विकसित क्षेपणास्त्र का भी सफल परीक्षण किया है। रशिया की सरकारी वृत्तसंस्था ‘इंटरफ़ॅक्स’ ने इस वृत्त की पुष्टि की है। रशिया द्वारा किया गया यह परीक्षण, यह अमरीका के सामने खड़ी हुई नयी चुनौती है, ऐसी चिंता अमरिकी अधिकारी एवं […]

Read More »

भारत माता की जय

भारत माता की  जय

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ – भाग १९ संघ पर प्रतिबंध लगाया जा चुका था। सरसंघचालक श्रीगुरुजी को जेल में रखा गया था। इसके विरोध में स्वयंसेवको ने सत्याग्रह, आंदोलन भी किये। परन्तु किसी के भी द्वारा देशविघातक कृत्य नहीं किये गये। संघ का अनुशासन एवं व्यवस्थापन अभेद्य था। गुरुजी यानी सरसंघचालक के जेल में रहते […]

Read More »

अस्थिसंस्था भाग – ८

अस्थिसंस्था भाग – ८

अस्थिसंस्था के बारे में अध्ययन करते करते हम अपने सिर तक आ गये हैं। हमारा सिर, हमारे सिर की अस्थियाँ (खोपड़ी) ये हमारे शरीर का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा हैं। हमारे शरीर का कौन सा अवयव श्रेष्ष्ठ और कौन सा अवयव कनिष्ठ है, इस पर विवाद करना व्यर्थ है। हमारा प्रत्येक अवयव अपने स्थान पर श्रेष्ठ […]

Read More »
1 2 3 30